केवल 18 प्रतिशत स्टार्टअप ने किया दावा, स्टार्टअप इंडिया योजना से लाभान्वित होने का

अगर आपको लगता है कि देश में स्टार्टअप के लिए पिछले कुछ साल सबसे अच्छे थे, तो शायद आपको फिर से सोचने की आवश्यकता है, क्योंकि लोकलसर्किल्स (LocalCircles) द्वारा किये गए एक नए सर्वेक्षण से भारत में स्टार्टअप के विकास के बारे में एक विपरीत एवं अलग बात का पता चलता है।

रिपोर्ट के अनुसार, मौजूदा स्थिति स्टार्टअप्स और एसएमई के लिए उज्ज्वल नहीं दिखती क्योंकि एंजेल टैक्स का मुद्दा उनके लिए एक प्रमुख मुश्किल के तौर पर उभरा है। यह सर्वेक्षण, एन्ट्रैकर के पास उपलब्ध है, जिसमें कहा गया है कि लगभग 32 फीसदी स्टार्टअप्स ने कई आयकर नोटिस प्राप्त किए और लगभग 38 फीसदी स्टार्टअप्स ने आयकर नोटिस प्राप्त की, जो कि वर्ष 2017 से सिर्फ एक फीसदी कम है।

स्टार्टअप को लाभान्वित करने वाली सरकार की योजना के बारे में बात करते हुए, सर्वेक्षण में आगे कहा गया है कि केवल 18 प्रतिशत स्टार्टअप और एसएमई ने स्टार्टअप इंडिया योजना से लाभान्वित होने का दावा किया है। 80 प्रतिशत से अधिक स्टार्टअप्स को अत्यधिक प्रचारित इस योजना से कोई लाभ नहीं मिला।

वर्तमान में, आयकर विभाग स्टार्टअप द्वारा जुटाई गई पूंजी को अन्य स्रोतों से आय के रूप में मानता है, और इसलिए उन पर 30 प्रतिशत कर लगाया जाता है। उनके वैल्यूएशन को लेकर सरकार और स्टार्टअप्स के बीच रस्साकशी चल रही है।

सरकार ने इस कदम के माध्यम से मनी लॉन्ड्रिंग पर अंकुश लगाने का दावा किया है। वे वास्तविक मूल्य बहुत कम होने के बावजूद भी निवेश में उच्च राशि का भुगतान करने पर सवाल उठाते रहते हैं। जबकि स्टार्टअप का सोचना इससे अलग है।

लगभग 97 प्रतिशत सर्वेक्षण उत्तरदाताओं का मानना ​​है कि स्टार्टअप वैल्यूएशन पर आयकर अधिकारियों को शिक्षित होने की तत्काल आवश्यकता है।

सरकार से अपेक्षित प्रोत्साहन के अभाव में, स्टार्टअप के संस्थापक हाल के विकास से भी प्रभावित हुए हैं। उनमें से अधिकांश, निवेश को अपने लिए सबसे बड़ी बाधा के रूप में देखते हैं। लगभग 24 फीसदी स्टार्टअप, वर्ष 2019 में अपने कारोबार को बंद करने के बारे में सोचते हैं, जो कि पिछले साल के आंकड़े से 13 फीसदी अधिक है।

लगभग 17 फीसदी स्टार्टअप इस वर्ष अपने हेडकाउंट को कम कर रहे होंगे जबकि 25 फीसदी इस साल 5 से ज्यादा लोगों को नौकरी देने का दावा कर रहे हैं।

यह सर्वेक्षण, 35k से अधिक स्टार्टअप के बीच आयोजित किया गया था। लोकलसर्किल्स ने देश भर के स्टार्टअप, एसएमई और उद्यमियों से 40k से अधिक प्रतिक्रियाएं प्राप्त करने का दावा किया है।

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here