Xiaomi ने बीटा में शुरु किया UPI समर्थित Mi Pay

यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस ( UPI) वैश्विक व स्थानीय कंपनियों के लिए युद्ध के मैदान जैसा बनता जा रहा है। पेटीएम, गूगल, फ़ोन पे, ट्रू कॉलर और मोबिक्विक के अतिरिक्त, व्हाट्सएप, जिओ और ऐमज़ॉन जैसे कई अन्य समूह हैं जो दिन प्रतिदिन तेज़ी से बढ़ रहे इस डिजिटल भुगतान बाज़ार ( जिसके वर्ष 2023 तक $1 ट्रीलियन बढ़ जाने की संभावना है) का हिस्सा बनना चाहते हैं।

शाओमी भी इन सबसे अलग नहीं। ऊपर उल्लेखित कंपनियों की श्रेणी में शामिल होते हुए, स्मार्टफोन ब्रांड शाओमी भी भारत में UPI के साथ ग्राहक भुगतान क्षेत्र में प्रवेश करने जा रहा है। NPCI से स्वीकृति मिलने के साथ ही कंपनी Mi Pay सभी के लिए शुरू करने की ओर एक और कदम बढ़ाने को बिल्कुल तैयार है।

फिलहाल, Xiaomi, Mi Pay का परीक्षण बीटा ( लिंक) में ICICI और PayU के साथ कर रहा है। NPCI ने Mi Pay को बड़े समूह के उपयोग के लिए हरी झंडी दिखा दी है जिसके कारण उसका बीटा परीक्षण अब लाइव होगा और बहुत जल्द यह सभी MIUI उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध होगा।

व्हाट्सएप से अलग ( जो 1 मिलियन उपयोगकर्ताओं तक सीमित है) NPCI ने शाओमी को बड़े समूह के प्रयोग के लिए स्वीकृति दे दी है। Mi Pay उपयोगकर्ताओं को फण्ड हस्तांतरण के अतिरिक्त,
अनेक प्रकार के इस्तेमाल जैसे बिल/ रिचार्ज, पानी और बिजली का बिल देने के लिए UPI ढांचे का प्रयोग करते हुए भुगतान की सुविधा देगा।

यह गौरतलब है कि शाओमी NBFC, ‘Xiaomi फाइनेंशियल सर्विसेज़ इंडिया’ भी शुरु करने की योजना बना रहा है व इसके लिए वह RBI लाइसेंस ले रहा है। कंपनी ने अपने निवेशक Krazybee की सहायता से भी माइक्रो-ऋण मंच- CreditBee की शुरुआत की थी।

नवंबर 2016 में अपनी शुरुआत के समय से ही UPI बड़ी तेज़ गति से बढ़ रहा है। पिछले महीने NPCI के स्वामित्व वाले डिजिटल भुगतान माध्यम ने 500 मिलियन लेन देन का आंकड़ा पार किया है।

इस समय पेटीएम का UPI इकोसिस्टम पर प्रभुत्व है। इसके बाद PhonePe और GooglePay को स्थान मिला है।

इसी दौरान, जिओ भी UPI सेवाएं शुरु करने के लिए NPCI की स्वीकृति की प्रतीक्षा कर रहा है। इस क्षेत्र में जिओ के साथ व्हाट्सएप का प्रवेश प्रतिद्वंदिता को और बढ़ावा देगा।

बड़े बड़े समूहों के पहले से ही UPI इकोसिस्टम में प्रतिस्पर्धा व अन्य कई के नियामक से मंजूरी की प्रतीक्षा के साथ, Mi Pay की राह इतनी आसान नहीं होगी। आगे जाकर यह देखना होगा कि डिजिटल भुगतान परिदृश्य में अपनी सर्वोच्चता सिद्ध करने के लिए यह क्या -क्या करते हैं।

Reply
Forward

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here