को-लिविंग क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए Warburg Pincus ने Lemon Tree के साथ किया 3,000 करोड़ रुपए का JV

प्राइवेट इक्विटी फर्म, वारबर्ग पिंकस (Warburg Pincus), लेमन ट्री होटल्स (Lemon Tree Hotels) के साथ एक संयुक्त उद्यम स्थापित करते हुए, छात्रों और कामकाजी पेशेवरों के लिए को- लिविंग क्षेत्र ( साझा रहने की जगह) में प्रवेश करने जा रहा है।

संयुक्त उद्यम में 3,000 करोड़ रुपये का निवेश होगा और जिसमे वॉरबर्ग की 68 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। शेष हिस्सेदारी, मिड-प्राइस होटल चेन (30 प्रतिशत) और इसके प्रबंध निदेशक पतंजलि केसवानी (2 प्रतिशत) के पास होगी।

यह उद्यम, हैमस्टेड लिविंग (Hamstede Living) के रूप में जाना जाएगा, और यह शुरुआत में इक्विटी के रूप में दोनों संस्थाओं से 1,500 करोड़ रुपये प्राप्त करेगा और बाकी पूंजी को इस परियोजना के विकास के लिए बाद में उपयोग किया जाएगा।

मिंट की रिपोर्ट के अनुसार, बीएसई की फाईलिंग के अनुसार, वारबर्ग पिंकस ने अपने सहयोगी, मैग्नोलिया ग्रोव इन्वेस्टमेंट लिमिटेड (Magnolia Grove Investment Ltd.) के माध्यम से साझेदारी का गठन किया है।

भविष्य में, संयुक्त उद्यम का उद्देश्य एक परिसंपत्ति-लाइट मॉडल में अपने व्यवसाय को स्थानांतरित करना है।

अन्य सह-लिविंग मंचों की तरह, इस परियोजना में पूर्ण स्टैक सह-लिविंग आवास प्रदान करने के लिए रहने वाले कमरे, जिम और कैफेटेरिया जैसे साझा स्थान शामिल होंगे।

यह विकास, सॉफ्टबैंक (SoftBank) समर्थित बजट होटल चेन ओयो (Oyo) द्वारा सह-लिविंग क्षेत्र में प्रवेश करने के बाद आया है। ओयो अपनी सह-लिविंग सेवा पेशकश के लिए बड़े स्वतंत्र घरों, रो हाउसेज, अपार्टमेंट टॉवर को हासिल करेगा।

कंपनी ने कहा कि वर्ष 2018 के अंत तक, ओयो लिविंग सेवा गुरुग्राम, बेंगलुरु, और पुणे सहित 5 शहरों में उपलब्ध होगी।

इस क्षेत्र में लेमन ट्री के प्रवेश के साथ, इसका मुकाबला, ओयो, नेस्टावे (NestAway), StayAbode (स्टेअबोड), और Ziffy Homes (जिफ्फी होम्स) के अलावा अन्य खिलाड़ियों से होगा।

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here