उबर बनाएगा भारत को वैश्विक R&D केंद्र; स्टार्टअप को करेगा इनक्यूबेट

भारतीय बाज़ार पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए व विकास के अगले चरण की ओर बढ़ते हुए, उबर भारत को अपने अनुसंधान व विकास ( R & D) के लिए अगला केंद्र बनाने की ओर सोच रहा है। इस दिशा में बाद कदम रखते हुए, यह टैक्सी सेवा कंपनी स्टार्टअप के लिए इनक्यूबेटर का काम करेगा जो उसकी ट्रांसपोर्ट व मोबिलिटी की समस्याएं सुलझाने में सहायता करेंगे।

फिलहाल, उबर के विश्व भर में 10 केंद्र हैं और भारत समूचे एशियाई क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है।

यह ख़बर तब सामने आई है जब कुछ ही समय पहले यह पता चला था कि कंपनी भारत में अपनी इंजीनियरिंग टीम को दुगना करने जा रही है। ऐसा हो जाने के बाद क़रीबन 1000 की संख्या वाले यह तकनीकी विशेषज्ञ प्रोडक्ट डिज़ाइन, डेटा वैज्ञानिक और AIL/ML विशेषज्ञों के रूप में काम करेंगे।

बिज़नेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट में कहा गया कि, उबर इंडिया के इंजिनियरिंग अध्यक्ष, अपूर्व दलाल के अनुसार, के R&D केंद्र, एक लैबोरेटरी के रुप में काम करेगा जो वैश्विक व उभरता हुआ बाज़ार दोनों की समस्याओं को सुलझाने में सहायता करेगा।

वर्ष 2016 में भारत के लिए एक समर्पित R&D की शुरुआत के बाद से, यह कंपनी की ओर से एक और महत्वपूर्ण कदम है। बेंगलुरु और हैदराबाद में R&D केंद्रों के साथ भारत निश्चित ही अमेरिका से बाहर, सबसे अधिक तकनीकी उपस्थिति वाला देश है।

उबर की भारतीय इकाई ने हाल ही में अपने तीसरी तिमाही में $1.64 बिलियन की वार्षिक सकल बुकिंग दर दर्ज़ की थी जो इस राइड सेवा समूह के वैश्विक संचालन का 11 प्रतिशत आंका गया।

भारत में कंपनी के पसंदीदा उत्पादों में से एक, उबर लाइट ने ख़राब नेटवर्क वाले क्षेत्रों में काम करने की अपनी क्षमता से ग्राहकों का दिल जीत लिया है। यह उत्पाद 14 अन्य देशों में भी प्रयोग में लाया जाता है जिनमें इजिप्ट, पश्चिमी एशिया, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका भी शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त R&D केंद्र, कई अन्य फीचर पर भी काम कर रहें हैं जैसे बुजुर्गों के लिए ‘कॉल टू राइड’ व चालक समुदाय के लिए ‘ दोस्त ऐप’।

कंपनी का सबसे निकट प्रतिद्वंद्वी, ओला ने भी ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट की शुरुआत की है। कंपनी की नीति अनुसंधान और सामाजिक नवीनता इकाई, नागरिकों पर से मोबिलिटी के बोझ को कम करने के लिए नए तरीके इज़ाद करने में सहायता करेगी।

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here